ज्योतिबा फुले की अमर कहानी

90.00

ज्योतिबा फुले की अमर कहानी📚

भारतिय समाज मे स्त्री का स्थान जानवरो और शूद्रों से भी निम्न था । स्त्री जाति द्वारा शिक्षा प्राप्त करना धर्म के विरुद्ध किया गया पाप समझा जाता था । लेकिन इस स्थिति में भी ज्योतिबा फुले ने सावित्रीबाई को शिक्षित करके इस देश की प्रथम शिक्षिका , अध्यापिका बनाया । क्योकि फुले का कहना था कि ‘ एक शिक्षित स्त्री भावी पीढ़ी की शिक्षिका ( गुरु ) होती है , शिक्षा का अधिकार न होने से शूद्रातिशूद्र समाज का भारी नुकसान हुआ ।

सावित्रीबाई के पाठशाला जाते समय कुछ संकीर्ण ब्राह्मण उन्हें रास्ते मे परेशान किया करते थे ।

18 in stock

Additional information

Weight 299 g

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “ज्योतिबा फुले की अमर कहानी”

Your email address will not be published. Required fields are marked *