तृतीय रत्न

40.00

19 in stock

Description

तृतीय रत्न 📚

पुरोहित ब्राह्मण, गर्भिणी स्त्री के पति के घर पर न होने का मौका देखकर , उसे दिन, नक्षत्र आदि के प्रभाव को बताने वाले शब्द जोर-जोर से बताता हुआ, गर्भिणी के घर के सामने आकर रुकता है ।

गर्भिणी द्वारा इन शब्दों को सुनते ही , वह थोड़ी-सी सूखी भिक्षा सामग्री लेकर बाहर आती है 👇

जोशी : स्त्री के हाथ मे थोड़ी-सी भिक्षा सामग्री देखकर , मन ही मन बहुत निराश होता है । ,,,,देवी ! मुझ ब्राह्मण के लिए यही इतनी-सी भिक्षा ?

स्त्री: क्यों महाराज ! क्या हुआ ? क्या यह भिक्षा नही है ? मैं एक गरीब स्त्री हू मेरे पति की तो केवल चार रुपये मासिक ही आमदनी है !!

जोशी: देवी ! यह भिक्षा नही , कौन कहता है ? लेकिन इतनी-सी भिक्षा से मेरा पेट कैसे भरेगा ? और में तेरा कल्याण कैसे करूंगा ?

स्त्री : (कुछ परेशान-सी होकर ) जाओ बाबा , ब्राह्मण की जोर जर्बदस्ती ही बहुत है । हम आप लोगों के पेट की चिन्ता कहा तक करे ? आप लोग कोई कारोबार क्यो नही कर लेते ?

जोशी: ( नोकरी धन्धा तो भाग्य में ही लिखा दिखता है , तू क्या बता रही है- 😡

स्त्री:(थोड़ा सोचते हुए) उस स्त्री का बच्चा तो उसके अपने भाग्य से मरा है ।

जोशी: ( थोड़ा हंसकर ) भाग्य से मरा है ?

स्त्री: भाग्य से नही तो और किससे ? तुम्हे पेट भर के भिक्षा नही दी, इसलिए मरा है ?

जोशी: भिक्षा थोड़ी ही क्यो न हो ,पर हमें सन्तोष देने वाली तो हो ।

स्त्री: उसने यदि तुम्हे सन्तोष देने वाली भिक्षा दी होती तो क्या तुम उसके बच्चे को बचा लेते ?

जोशी: इसमे सन्देह कैसा ? यदि उसने भिक्षा से मुझे सन्तुष्ट किया होता तो निस्चित ही मैने उसकी सारी ग्रह बाधाए दूर की होती और क्या वह पुत्रवती नही होती ?

स्त्री का उत्तर👇

Additional information

Weight 99 g

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “तृतीय रत्न”

Your email address will not be published.