प्राचीन भारत में क्रांति और प्रतिक्रांति

375.00

वेन और ब्राह्मणों के बीच मुदा यह था कि 👇
क्या राजा का प्रभुत्व रहेगा अथवा ब्राह्मण का ब्राह्मण राज की पूजा करेगा और भगवान के सम्मुख बलि चढ़ाने के बजाय वह राजा को बलि अर्पित करेगा ।

पुरुरवा और ब्राह्मणों के बीच का मुद्दा दूसरे किस्म का था : क्या राजा ब्राह्मणों की संपत्ति जब्त कर सकता है या नही ? 👇

नहुष और ब्राह्मणों के बीच का मुद्दा क्षत्रिय राजा द्वरा ब्राह्मण से गुलामो जैसा काम करवाने पर केन्द्रीत था । 👇

इस आधार पर इन दोनों वर्गो के बीच संघर्ष के बड़े मुदो का पता चल जाता है । इसमें कोई आश्चर्य नही कि इनके बीच संघर्ष सबसे अधिक कटु था । ये कभी -कभार होने वाले दंगे नही थे । यह संघर्ष एक -दूसरे को मिटा देने का संघर्ष था। ब्राह्मण परशुराम क्षत्रियो से इक्कीस बार लड़े ओर उन्होंने एक-एक क्षत्रिय को मार डाला । 👇

इन दोनों वर्गो से नीचे भी अन्य लोग थे । ये लोग चांडाल और श्वपाक थे । ये लोग मात्र अछूत ही नही , नीच भी माने जाते थे । ये समाज और कानून के दायरे के बाहर थे । इनके कोई अधिकार या कोई अवसर नही होते थे । ये आर्यो के समाज से बहिष्कृत थे ।👇

4 in stock

Additional information

Weight 1599 g

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “प्राचीन भारत में क्रांति और प्रतिक्रांति”

Your email address will not be published. Required fields are marked *